Thursday, October 6, 2016

कलाकार कलाकार होता है वो आतंकवादी नहीं होता वो एक नागरिक भी होता है !

Filled under:



कलाकार कलाकार होता है वो आतंकवादी नहीं होता वो एक नागरिक भी होता है !

हमारे देश में सबको बोलने का हक़ है और मीडिया को सबसे पूछने का यो दो बाते दो सौ बुराइया पैदा कर जाती है एक ने पूछा दूसरे ने बोला बाकि सब इस बात की सफाई दे की इसने ये सही कहा की गलत जो सही के साथ खड़ा वो गलत और जो गलत के साथ खड़ा वो सही इसमें ही मीडिया पुरे दिन चर्चा करती नज़र आती
है और इससे कुछ फायदा होता है तो वो है TRP का और TRP से विज्ञापन का और विज्ञापन से सबकी सैलरी का क्योकि सैलरी से ही खाना खायेंगे और फिर दिन भर चिल्लायेंगे |
कलाकारों को देश पर और राजनीति पर टिप्पणी देनी ही नहीं चहिये आप एक कलाकार है और आपका काम है मनोरंजन करना और आप मनोरंजन करिए सेना राजनीति धर्म संप्रदाय in सब के पचडे में आप क्यों पड़ते है |
अगर कलाकार कलाकार होता तो वो भारत छोडने से पहले ही बोलता मेरे लिए मेरा देश प्रथम है लेकिन उस कलाकार ने ही अपने देश पहुच कर ही कहा क्यों क्योंकि वो जानता है की अगर यहाँ  पर बोला तो यहाँ वाले नहीं छोड़ेंगे और अगर यहाँ रहते हुए अपने देश के खिलाफ बोला तो वहा जाने पर वहा वाले नहीं छोड़ेंगे |
लेकिन आप अपने देश की मिटटी में पैदा हुए अनाज को खाते है उस आनाज से ही आपके शरीर में खून बनता है फिर आप अपने ही खून से गद्दारी कैसे कर सकते है |
सिर्फ ये सन्देश की आप कलाकार है और आप को उतना सम्मान मिलता है जितना देश के जवानो को भी शायद नहीं मिलते आप के साथ हर कोई खडे होना चाहता है फोटो खीचना चाहता है क्या ऐसा देश की सुरक्षा में लगे सैनिको के साथ होता है ये मौका तो नेता भी उठा लेते है और देश के लिए खेलने वाले खिलाड़ी भी सब की सब उन देश भक्त सैनिको से ज्यादा कमाते भी है और घूमते भी है |
अरे कलाकारों इतना ही बोलने का शौक है तो कलाकारी छोड़ो और राजनीति में आ जाओ कम से कम ये तो मालूम पडेगा की नेता बोल रहा है ,ये ऐसे ही बोलते हो | एक और आप देशभक्ति की फिल्मे करके करोड़ो कमाते हो और दूसरी और उन देश भक्तो और सैनिको का दिल दुखाते हो ! आप सच में कलाकार हो जो लोगो को हँसाते भी है फिल्मो के माध्यम से और रुलाते भी है गलत बयान देकर असल ज़िन्दगी में | india first country first का नारा बुलंद करे न की सिर्फ खाने कमाने की चिंता में लगे रहे |


Posted By Ashish TripathiThursday, October 06, 2016